Indian_Blogs🇮🇳, Marathi Lekh

“ वाह रे जिंदगी ”- छोटीशी मराठी कविता आहे परंतु आयुष्याचे सूत्रच सांगते

वाह रे जिंदगीदौलत की भूख ऐसी लगी की कमाने निकल गएओर जब दौलत मिली तो हाथ से रिश्ते निकल गएबच्चो के साथ रहने की फुरसत ना मिल सकीओर जब फुरसत मिली तो बच्चे कमाने निकल गएवाह रे जिंदगीजिंदगी की आधी उम्र तक पैसा कमायापैसा कमाने में इस शरीर को खराब कियाबाकी आधी उम्र उसी पैसे… Continue reading “ वाह रे जिंदगी ”- छोटीशी मराठी कविता आहे परंतु आयुष्याचे सूत्रच सांगते